Feeds:
પોસ્ટો
ટિપ્પણીઓ

Posts Tagged ‘Poems’

ये कैसी शाम है
कैसी धुन्ध छाई है आज
सूरज भी डूब रहा है
और वैसे भी बादल आसमान में
कुछ ज्यादा ही है आज
पार्क की लाइट्स जल नहीं रही है
लगता है फिर से इलैकट्रीसिटी चली गई है
बेंच पर से मैं खड़ा होता हूँ
और चारों और देखता हूँ
बहोत कम लोग दिख रहे है
मैं भी घर जाने की सोचता हूँ
बागीचे के दरवाज़े से बाहर निकलता हूँ
रास्तों पे काफी भीड़ है
कार्स और स्कूटर्स दौड़ादौड़ कर रहे है
ऊपर देखता हूँ
पंछी भी घर को लौट रहे है
कहीं दूर से पटाखे की आवाज़ आती है
अरे हां, याद आया
कल तो दिवाली है.
ये भी याद आया की
मिठाइयां लानी है, खानी है
पॉकेट में हाथ डालता हूँ
दस का नोट, पचास का नोट, सौ का नोट
सब मिलाके बहुत नहीं है.
मिठाई आएगी शायद, पटाखे नहीं आयेंगे.
चलो, इस बार की दिवाली भी
अगले वक़्त की तराह ही जायेगी.

– Prakash Khanchandani

Read Full Post »